[BEST Deep Romantic Hindi Love Poems] – [रात का अंधेरा]

[BEST Deep Romantic Hindi Love Poems] – [रात का अंधेरा]

Deep Romantic Hindi Love Poems: हेलो दोस्तों आज हम आपके लिए कुछ Deep Romantic Hindi Love Poems लेकर आये हैं इसमें कुछ Short Deep Love Poems आपके दिल को छू जाएँगी, हमने आज की पोस्ट में कुछ Hindi Love Poems फॉर बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड भी ऐड किये हैं जिन्हे आप अपने Love Ones को Dedicate कर सकते हैं तो चलिए आज की महफ़िल की शुरुआत करते हैं हम कुछ Best Hindi True Love Poems के साथ.

Deep Romantic Hindi Love Poems

Best True Love Poems in Hindi-रात का अंधेरा:

रात का अंधेरा है सुबह होने मे हैं
ये अंधेरा भी चला जाएगा वक्त के साथ किस ने देखा वक्त को
आज बुरा हैं तो कल वक्त अच्छा भी आएगा…
जो अपना हैं वो आज पराया सा हो गया हैं
वक्त ने आज अपने और पराये का फर्क बताया हैं
इस गम के दुनिया में हँसाने वाले कम रुलाने वाले ज्यादा मिलेंगे
कामयाबी उसी के कदम चूमी है जो गम में भी हार न मानी है
भीड़ ने आज मुझे निकाला है
रात का अंधेरा है सुबह होने मे हैं
ये अंधेरा भी चला जाएगा वक्त के साथ किस ने देखा वक्त को

Love Poems in Hindi for Boyfriend-समंदर की गहराई

आँसुओ के समंदर में छोड़ा गया वो डुडने की कोशिश में बह गया वो
ना वो हमारे थे ना हम उनके थे
फिर भी केसा रिस्ता ज़ोड गया वो ….
उम्मीद नहीं थी जीने की
उम्मीद नहीं थी जीने की
एक ऐसी उम्मीद जगा गया वो ….
आँसुओ के समंदर में छोड़ा गया वो डुडने की कोशिश में बह गया वो

यह भी एक जबरदस्त कविता है जरूर पढ़ें : [Best Sad Love Poetry in Hindi]-[अब उनका ज़िक्र हमें पसंद नहीं]

[Deep Romantic Hindi Love Poems]दिल का हाल

ना हम रुक सके ना हमारे ऑसू
दिल का हाल ऐसा था
की टूट कर भी टूट ना सके हम
रुठ कर भी रुठ ना सके हम
ना हम रुक सके ना हमारे ऑसू
हम टूटे पर उनका दिल तोड़ ना सके हम
हम रुक कर भी उनको रोक ना सके हम

वक्त की समझ

वक्त की गहराई को जो समझा आज उसी के हाथ में वक्त है
वक्त सभी के पास एक समान है
है फ़र्क़ बस इतना …
के वक्त को समझना …
अमीर हो या गरीब हो जो वक्त को समझा वही अमीर है
वक्त वक्त पर कहना हर किसी की आदत नहीं है
वक्त वक्त पर समझना हर किसी की आदत नहीं होती
जो वक्त पर कर गया वही आज ठहर गया
वक्त गया तो कुछ नहीं वक्त है तो सबकुछ
वक्त की गहराई को जो समझा आज उसी के हाथ में वक्त है

अलविदा

अलविदा उस वक्त को जिस वक्त में हम मिले
अलविदा उस वक्त को जिस वक्त पर हम बिछड़े
अलविदा उस वक्त को जिस हसीन पल में हम जिंदगी को जी गए
अलविदा उस वक्त को जिस उम्र को हम जी गए
अलविदा उस वक्त को जिस वक्त में हम ना रहे ………..

यह भी एक जबरदस्त कविता है जरूर पढ़ें : [ Broken Heart Poems in Hindi: खुशबू सच्ची मुहब्बत की ]

हार – जीत

इकीसवीं सदी से वक्त चला आ रहा है
जो रुकता नहीं है थकता नहीं है
मौसम बदले दिन बदले ना बदले वक्त
वक्त का काटा एक दूसरे को हराने में लगा है
ना रुकता है
ना थकता है
बस दौड़ता ही जा रहा है फिर भी जीता ना कोई …..

कब कहना

वक्त पर कही जाती है बात, बेवक्त तो कुत्ता भी भोक्ता है
सख्त हो कर नहीं वक्त पर कहो
नफरत से नहीं होसलो से जीतो
वक्त सभी का आता है
वक्त बुरा है….
तो, सब्र करना अच्छा हो तो शुक्र करना…..

सब्र

सोते हुए समंदर को ना छेड़ो
सोते हुए समंदर को ना छेड़ो
उठ गया तो,
शोर मचा देगा
सोते हुए समंदर को ना छेड़ो
उठ गया तो,
तुम्हे सुला देगा …..

[ Deep Romantic Hindi Love Poems] खामोशिया

खामोशिया क्यो शांत है
खामोशिया क्यो शांत है
कुछ तो गम उसके पास है
खामोशिया क्यो शांत है
कुछ तो कम उसके पास है
खामोशिया क्यो शांत है
कुछ तो तन्हा उसके पास है
खामोशिया क्यो शांत है
कुछ तो लम्हा उसके पास है

BEST Deep Romantic Hindi Love Poems-वक्त से सीखा

हारना हमने ना सीखा, जिंदगी ने हरा दिया
सभलना हमने ना सीखा
वक्त ने सीखा दिया…
हसना हमने ना सीखा
औरो ने सीखा दिया …
रोना हमने ना सीखा
अपनों ने सीखा दिया….

है कहा रास्ता

ना खुशिया का रास्ता मिला…
ना मंजिल का रास्ता मिला …
खुशियों के दरवाजे पर दस्तक दी तो,
वहा है
औरो का डेरा,
दुःख के दरवाजे पर मिला ना कोई ,
हमने दुखो का रास्ता ही चुन लिया
क्यूंकि खुशियों के दरवाजे पर
साथ ना कोई,

है कहा वो

है कहा वो जिसे दिल ढूढ़ रहा है,
है कहा वो जिसे ढूढ़ते ढूढ़ते हम कहा आ गए
बरसो हो गए …. पर है
ना पता उसका
ना रातो को नीद है….
ना दिल को सुकून,
रो पड़ी है आखे भी
उसके इतजार में,
है कहा वो रास्ता जहा …
वो मिल जाए हमें ……
रहेगा इतजार उसका …..
हर जन्म हर जन्म …..

एक रिस्ता

हमने तो तुमसे एक रिस्ता जोड़ा था
तुम तो उस रिस्ते से भी गहरे हो गए….
हमने तो तुमसे एक समझौता किया था
तुम तो उस समझोते से भी ज्यादा के होगए….
हमने तो तुमसे एक जगह मागी थी
तुम तो पुरे ही अपने होगए ……
हमने तो तुम से एक रिस्ता जोड़ा था
तुम तो उस रिस्ते से भी गहरे हो गए….

केसी-केसी

ये दुरी है केसी एक किनारे से दूसरे किनारे जैसी
ये गम है केसा ना खुसी मिले जैसा
ये राहे है केसी हो राहो में काटे जैसी
ये कमी है केसी ना पूरी हो जैसी…..
ये दुनिया है केसी ना समझ हो जैसी
ये मंदिर है केसा हो मुराद पूरी जैसा …..



2 Comments

Darwin Glausier
March 19, 2020 at 3:18 pm25

I like this image 😀

Reply

[…] पढ़कर आपके दिल से जरूर निकलेगा Best two line shayari […]

Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*
*
*